‘कथा पंजाब’ में आपका स्वागत है ! मई 13 अंक में आप पढ़ेंगे- ‘पंजाबी कहानी : आज तक’ के अन्तर्गत पंजाबी के प्रख्यात लेखिका अजीत कौर की एक प्रसिद्ध कहानी 'एक और फालतू औरत', ‘आत्मकथा/स्व-जीवनी’ के अन्तर्गत पंजाबी के वरिष्ठ लेखक प्रेम प्रकाश की आत्मकथा ‘आत्ममाया’ की अगली कड़ी तथा ‘पंजाबी उपन्यास’ के अन्तर्गत बलबीर सिंह मोमी के उपन्यास ‘पीला गुलाब’ की 15वीं किस्त …

Marquee

पंजाबी लघुकथा : आज तक

>> रविवार, 12 फ़रवरी 2012


पंजाबी लघुकथा : आज तक(9)

'पंजाबी लघुकथा : आज तक' के अन्तर्गत अब तक आप पंजाबी लघुकथा की अग्रज पीढ़ी के कथाकार भूपिंदर सिंह, हमदर्दवीर नौशहरवी, दर्शन मितवा, (स्व.)शरन मक्कड, सुलक्खन मीत, श्याम सुन्दर अग्रवाल, डॉ. श्यामसुन्दर दीप्ति और (स्व.) जगदीश अरमानी की चुनिंदा लघुकथाएं आप पढ़ चुके हैं। इसी कड़ी में प्रस्तुत हैं- हरभजन सिंह खेमकरनी की पाँच पंजाबी लघुकथाओं का हिंदी अनुवाद। खेमकरनी जी पंजाबी लघुकथा के अग्रणी एवं बहुचर्चित लेखक रहे हैं और सत्तर वर्ष की आयु में अभी भी सृजनरत हैं। पंजाबी लघुकथा में इनका नाम बड़े सम्मान से लिया जाता है। ‘गली का सफ़र’, ‘वेला-कुवेला’(कहानी संग्रह), ‘थिंदा घड़ा’(लघुकथा संग्रह) और ‘ठंडी-तत्ती रेत’(कविता संग्रह) छप चुके हैं और अनेक पुस्तकों का संपादन किया है। बहुत सी लघुकथाओं का हिंदी, उर्दू और अन्य भारतीय भाषाओं में अनुवाद हुआ है। देश और प्रांत के कई सम्मानों से सम्मानित। संपर्क : 4381-ए, रणजीत पुरा, पुतलीघर, अमृतसर-143002(पंजाब)
फोन : 098781-31525
-सुभाष नीरव
संपादक : कथा पंजाब

हरभजन सिंह खेमकरनी की पाँच लघुकथाएं
हिंदी अनुवाद : सुभाष नीरव

(1) वर्दी

हवेली के सामने बैठा सरपंच अपने हिमायतियों के संग मामले निपटाने के संबंध में सलाह-मशवरा कर रहा था। उनके समीप ही फौज के छुट्टी पर आया सरपंच का बेटा वर्दी कसे हुए अपनी मित्र-मंडली के बीच बैठकर फौजी किस्से चटखारे ले-लेकर सुना रहा था। तभी गाँव लौटा सूबेदार निशान सिंह आँगन में जाने के लिए हवेली के सामने से गुजरा। उसे देखते ही सरपंच के बेटे ने खड़े होकर ज़ोरदार सैल्यूट मारा। सैल्यूट का उत्तर देकर जब सूबेदार थोड़ा आगे बढ़ गया तो पीछे से किसी ने शब्दबाण छोड़े –
“आज़ादी तो इन्हें मिली है। देखो सूबेदार का रौब ! सरपंच का बेटा भी सैलूट मारता है।”
“भाऊजी, आदमी को कौन पूछता है? यह तो कंधे पर लगे फीतों की इज्जत है।”
“कोई बात नहीं, सूबेदार को संदेश भेज देते हैं कि अब से गाँव में वर्दी पहनकर न आया करे।” सरपंच ने शून्य में घूरते हुए कहा।

(2) रिश्तों का फ़ासला

एक रिश्तेदार के घर हो रहे विवाह समारोह में सम्मिलित होने के लिए वह अपने गाँव के बस-स्टैंड पर बस की प्रतीक्षा कर रहा था। उसके संग उसकी नव-विवाहिता पत्नी, जवान साली और अनब्याही जवान बहन थी। बस जैसे ही उनके पास आकर रूकी, वह फुर्ती से सीटें हथियाने के लिए बस में चढ़ गया। पिछली खिड़की के पास ही तीन सवारियों वाली सीट पर वह बैठ गया। उसके दायीं ओर उसकी पत्नी बैठ गई और बायीं ओर उसकी साली। बहन जब उसके पास आकर खड़ी हुई तो उसने बस के अंदर दृष्टि घुमाई। अगली खिड़की के पास दो सवारियों वाली सीट, जिस पर एक नौजवान बैठा था, पर नज़र पड़ते ही उसने उस सीट की ओर उंगली से इशारा करते हुए बहन के कहा- “वीरो, तू उस सीट पर जाकर बैठ जा।”

(3) चिकना घड़ा

बी.एस. गिल की नेम-प्लेट पढ़ते हुए अमरीक सिंह गिल ने बैल बजाई तो एक बुज़ुर्ग ने गेट खोला।
“गिल साहब से मिलना है, दफ़्तर से आया हूँ।” बुज़ुर्ग ने सत्कार देते हुए उसको कहा –“आ जाओ… आ जाओ…बैठक में बैठे हैं।”
वह बैठक की तरफ़ हो गया तो वह बुर्ज़ग भी आ गया। गिल साहब ने अपने पिता जी के उसका परिचय कराया, “बापू जी, ये अमरीक सिंह गिल, मेरे साथ ही अफ़सर हैं।”
“ये तो फिर अपने ही हुए।” चेहरे पर मुस्कराहट लाते हुए बुज़ुर्ग ने कहा।
दफ़्तरी मामलों से फुरसत पाकर अब वे घूंट-घूंट लगाने लग पड़े तो बुज़ुर्ग भी उनका साथी बन गया। अमरीक सिंह गिल को धर्मपाल द्वारा हवा में छोड़े गए वाक्य ‘गिल साहब का गोती अफ़सर आ गया, अब लग जाएंगे पते भई--- कहते हैं न कि एक एक ग़्यारह’ ने सवेर से ही परेशान किया हुआ था। इस अधूरे वाक्य में कड़वाहट, ईर्ष्या, डर… कितना कुछ अपने आप आ मिला था। शायद गोत भाई समझते हुए ही मुझे घर पर बुलाया हो। तीसरे पैग के खत्म होते ही वह नशे की लोर में बोला, “गिल साहब ! शायद गोत भाई होने के कारण ही आपने यह तकलीफ़ की है, पर जो बात मैं चार दिन बाद किसी ने कहनी है, वो मैं ही बता देना चाहूँगा कि मैं गिल नहीं हूँ। यह तो मेरा गाँव गिल्ल-कलां होने के कारण मेरे नाम के साथ गिल जुड़ गया है।”
“छोड़ यार इन बातों को। पचास साल हो गए हमको आज़ाद हुए, पर इस जात-गोत ने हमें अभी भी उतना जकड़ा हुआ है, जितना पाँच सौ साल पहले। तेरी इस साफ़गोई ने मेरे दिल में और इज्जत बढ़ा दी है। वैसे मुझे पहले ही पता था कि तू मज्हबी (छोटी जात का) गिल है।”
इतनी बात सुनते ही बुज़ुर्ग के माथे पर बल आ गए। अमरीक सिंह पैग खाली करते हुए उठा और इजाज़त लेकर गेट की ओर बढ़ा। अभी वह स्कूटर स्टार्ट करने ही लगा था कि उसने शीशे का गिलास टूटने की आवाज़ इस तरह सुनी जैसे गिलास को जान-बूझकर दीवार पर मारा गया हो।

(4) नज़र और नज़र

राजधानी में हो रही राजनैतिक रैली में हिस्सा लेने के लिए बेटिकट भीड़ ने गाड़ी के रिज़र्व डिब्बों पर भी कब्ज़ा कर लिया था। बड़ी कठिनाई से मीनाक्षी रिज़र्व सीट वाले डिब्बे में चढ़ तो गई, पर सीट मिलना तो क्या, खड़ा होने के लिए भी जगह नहीं थी। छोटे बच्चे के साथ अकेले रात का सफ़र आराम से करने की खातिर रिज़र्व करवाई सीट को मिन्नतें करने पर भी सवारियाँ खाली करने को तैयार न हुईं और न ही किसी को गोद में उठाई, भीड़ से घबराई बच्ची के रोने पर तरस आया। यह सोचकर कि अक्सर पुरुष सवारियाँ बच्चे पर तरस करके सीट छोड़ देती हैं, उसने बैठी हुई सवारियों के चेहरों पर प्रश्नभरी नज़रों से देखा, पर लम्बे सफ़र के कारण कोई भी सवारी सीट छोड़ने के लिए तैयार न हुई। आख़िर एक जनाना सवारी अपने पैरों में रखी गठरी पर बैठते हुए कहा, “आ जा बहन, यहाँ बैठकर बच्चे को दूध पिला ले। देख, कैसे रो-रोकर बेहाल हुए जाता है।”
सीट पर बैठते ही मीनाक्षी ने पर्स में से दूध वाली बोतल निकालने के लिए हाथ मारा तो परेशान हो गई। जल्दबाजी में बोतल घर में ही रह गई थी। सीट की टेक की तरफ़ मुँह करने लायक जगह भी नहीं थी। अब बच्चे को अपना दूध कैसे पिलाये। उसे लग रहा था कि बहुत सारी नज़रें उसी पर टिकी हुई हैं। उसकी दुविधा को भाँपते हुए समीप बैठी जनानी सवारी ने हवा में शब्द छोड़े, “बेटी, कपड़े की ओट करके बच्ची को दूध पिला ले, ये लोग भी तो माँओं के दूध पीकर बड़े हुए हैं।”
आवाज़ सुनते ही नज़रें शर्मसार हो गईं।

(5) महत्वपूर्ण दिन

महीने की पहली तारीख़ को बैंक में से पैसे निकलवाने की मज़बूरीवश मुझे भी लम्बी कतार का हिस्सा बनना पड़ा। काउंटर की तरफ़ धीरे-धीर सरक रही कतार में अधिकतर बुज़ुर्ग ही थे जो शायद पेंशन निकलवाने आए थे। समय बिताने के लिए अनजान व्यक्तियों से भी बातों को साझा किया जा रहा था। कुछ जीवन की, खट्टी-मीठी यादों को सांझा कर रहे थे और कुछ घर के हालात का रोना रो रहे थे। तभी, मुझे करीब तीन आदमियों के बाद खड़े बुज़ुर्ग के शब्द कानों में पड़े कि किस्मत वालों के बच्चे ही अपने माँ-बाप को आखिरी उम्र में पूज्यनीय समझकर सेवा करते हैं। ज्यादातर से तो हर महीने किसी न किसी बहाने पेंशन भी छीन ली जाती है और उन्हें अपनी ज़रूरतें पूरी करने के लिए भिखारियों की तरह बेटे-बहुओं के आगे हाथ फैलाने पड़ते हैं।
“भाई साहब, आप ठीक कहते हैं। मेरा बेटा बाहर गेट के पास खड़ा है कि कब मैं बाहर आऊँ और वह मुझसे पैसे छीने।” एक अन्य ने बात आगे बढ़ाई।
“भाई मेरे बच्चे तो पेंशन को हाथ नहीं लगाते। जहाँ मर्जी खर्च कर। पहली तारीख़ को दोस्त-मित्रों से मिल जाया करते हैं और तनख्वाह की तरह पेंशन जेब में डालकर खुशी सी होती है।” एक और आदमी अपनी बात कहते हुए मुस्करा रहा था।
“घर के हालात भई सबके अपने अपने होते हैं। मेरा एक लड़का डॉक्टर है रेलवे में और एक फ़ौज में मेज़र है। खुला खर्च करने को देते हैं। बेटियाँ अपने घरों में हैं। कोई जिम्मेदारी नहीं। मैं पेंशन का एक भी पैसा घर में नहीं ले जाता। चार गरीब परिवारों की मदद हर महीने बाँध रखी है।” एक अन्य आवाज़ ने सभी को चौंकाया। सुनने वालों ने अपने अपने तीर छोड़े।
“बुज़ुर्गों को गप्प मारने की आदत लगती है।”
“दान करने वाले ढिंढ़ोरा नहीं पीटते।”
“पहली तारीख़ को क्या ज़रूरत है फिर लाइन में धक्के खाने की।”
“भाई साहब, अगर तुमने पेंशन निकलवाकर दान ही करनी है तो दस-बारह तारीख़ आया करो। धक्कों से बचाव हो जाएगा।” सोटी के सहारे खड़े बुज़ुर्ग ने कह ही दिया।
“तुम ठीक कहते हो, पर जिन परिवारों की मैं मदद करता हूँ, उनकी ज़रूरतें भी तो पहली तारीख़ से जुड़ी हुई हैं।”
लाइन में कुछ पल के लिए ख़ामोशी छा गई।

0 टिप्पणियाँ:

‘अनुवाद घर’ को समकालीन पंजाबी साहित्य की उत्कृष्ट कृतियों की तलाश

‘अनुवाद घर’ को समकालीन पंजाबी साहित्य की उत्कृष्ट कृतियों की तलाश है। कथा-कहानी, उपन्यास, आत्मकथा, शब्दचित्र आदि से जुड़ी कृतियों का हिंदी अनुवाद हम ‘अनुवाद घर’ पर धारावाहिक प्रकाशित करना चाहते हैं। इच्छुक लेखक, प्रकाशक ‘टर्म्स एंड कंडीशन्स’ जानने के लिए हमें मेल करें। हमारा मेल आई डी है- anuvadghar@gmail.com

छांग्या-रुक्ख (दलित आत्मकथा)- लेखक : बलबीर माधोपुरी अनुवादक : सुभाष नीरव

छांग्या-रुक्ख (दलित आत्मकथा)- लेखक : बलबीर माधोपुरी अनुवादक : सुभाष नीरव
वाणी प्रकाशन, 21-ए, दरियागंज, नई दिल्ली-110002, मूल्य : 300 रुपये

पंजाबी की चर्चित लघुकथाएं(लघुकथा संग्रह)- संपादन व अनुवाद : सुभाष नीरव

पंजाबी की चर्चित लघुकथाएं(लघुकथा संग्रह)- संपादन व अनुवाद : सुभाष नीरव
शुभम प्रकाशन, एन-10, उलधनपुर, नवीन शाहदरा, दिल्ली-110032, मूल्य : 120 रुपये

रेत (उपन्यास)- हरजीत अटवाल, अनुवादक : सुभाष नीरव

रेत (उपन्यास)- हरजीत अटवाल, अनुवादक : सुभाष नीरव
यूनीस्टार बुक्स प्रायवेट लि0, एस सी ओ, 26-27, सेक्टर 31-ए, चण्डीगढ़-160022, मूल्य : 400 रुपये

पाये से बंधा हुआ काल(कहानी संग्रह)-जतिंदर सिंह हांस, अनुवादक : सुभाष नीरव

पाये से बंधा हुआ काल(कहानी संग्रह)-जतिंदर सिंह हांस, अनुवादक : सुभाष नीरव
नीरज बुक सेंटर, सी-32, आर्या नगर सोसायटी, पटपड़गंज, दिल्ली-110032, मूल्य : 150 रुपये

कथा पंजाब(खंड-2)(कहानी संग्रह) संपादक- हरभजन सिंह, अनुवादक- सुभाष नीरव

कथा पंजाब(खंड-2)(कहानी संग्रह)  संपादक- हरभजन सिंह, अनुवादक- सुभाष नीरव
नेशनल बुक ट्रस्ट, इंडिया, नेहरू भवन, 5, इंस्टीट्यूशनल एरिया, वसंत कुंज, फेज-2, नई दिल्ली-110070, मूल्य :60 रुपये।

कुलवंत सिंह विर्क की चुनिंदा कहानियाँ(संपादन-जसवंत सिंह विरदी), हिंदी अनुवाद : सुभाष नीरव

कुलवंत सिंह विर्क की चुनिंदा कहानियाँ(संपादन-जसवंत सिंह विरदी), हिंदी अनुवाद : सुभाष नीरव
प्रकाशक : नेशनल बुक ट्रस्ट, नई दिल्ली, वर्ष 1998, 2004, मूल्य :35 रुपये

काला दौर (कहानी संग्रह)- संपादन व अनुवाद : सुभाष नीरव

काला दौर (कहानी संग्रह)- संपादन व अनुवाद : सुभाष नीरव
आत्माराम एंड संस, कश्मीरी गेट, दिल्ली-1100-6, मूल्य : 125 रुपये

ज़ख़्म, दर्द और पाप(पंजाबी कथाकर जिंदर की चुनिंदा कहानियाँ), संपादक व अनुवादक : सुभाष नीरव

ज़ख़्म, दर्द और पाप(पंजाबी कथाकर जिंदर की चुनिंदा कहानियाँ), संपादक व अनुवादक : सुभाष नीरव
प्रकाशन वर्ष : 2011, शिव प्रकाशन, जालंधर(पंजाब)

पंजाबी की साहित्यिक कृतियों के हिन्दी प्रकाशन की पहली ब्लॉग पत्रिका - "अनुवाद घर"

"अनुवाद घर" में माह के प्रथम और द्वितीय सप्ताह में मंगलवार को पढ़ें - डॉ एस तरसेम की पुस्तक "धृतराष्ट्र" (एक नेत्रहीन लेखक की आत्मकथा) का धारावाहिक प्रकाशन…

समकालीन पंजाबी साहित्य की अन्य श्रेष्ठ कृतियों का भी धारावाहिक प्रकाशन शीघ्र ही आरंभ होगा…

"अनुवाद घर" पर जाने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें - http://www.anuvadghar.blogspot.com/

व्यवस्थापक
'अनुवाद घर'

समीक्षा हेतु किताबें आमंत्रित

'कथा पंजाब’ के स्तम्भ ‘नई किताबें’ के अन्तर्गत पंजाबी की पुस्तकों के केवल हिन्दी संस्करण की ही समीक्षा प्रकाशित की जाएगी। लेखकों से अनुरोध है कि वे अपनी हिन्दी में अनूदित पुस्तकों की ही दो प्रतियाँ (कविता संग्रहों को छोड़कर) निम्न पते पर डाक से भिजवाएँ :
सुभाष नीरव
372, टाइप- 4, लक्ष्मीबाई नगर
नई दिल्ली-110023

‘नई किताबें’ के अन्तर्गत केवल हिन्दी में अनूदित हाल ही में प्रकाशित हुई पुस्तकों पर समीक्षा के लिए विचार किया जाएगा।
संपादक – कथा पंजाब

सर्वाधिकार सुरक्षित

'कथा पंजाब' में प्रकाशित सामग्री का सर्वाधिकार सुरक्षित है। इसमें प्रकाशित किसी भी रचना का पुनर्प्रकाशन, रेडियो-रूपान्तरण, फिल्मांकन अथवा अनुवाद के लिए 'कथा पंजाब' के सम्पादक और संबंधित लेखक की अनुमति लेना आवश्यक है।
‘कथा पंजाब’ के आगामी अंक में आप पढ़ेंगे –‘पंजाबी कहानी : आज तक’ में पंजाबी के प्रख्यात लेखक गुलजार सिंह संधु की कहानी, ‘आत्मकथा/स्व-जीवनी’ के अन्तर्गत पंजाबी के वरिष्ठ लेखक प्रेम प्रकाश की आत्मकथा ‘आत्ममाया’ की अगली कड़ी और बलबीर मोमी के उपन्यास ‘पीला गुलाब’ की अगली किस्त…

Marquee

  © Free Blogger Templates Wild Birds by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP