संपादकीय

>> गुरुवार, 12 नवंबर 2009

''कथा पंजाब'' के प्रकाशन पर देश-विदेश के अनेक परिचित, अपरिचित मित्रों ने अपनी न केवल शुभकामनाएं प्रेषित कीं वरन मेरे इस प्रयास को सराहा और उसकी भूरि-भूरि प्रशंसा भी की। मैं उन सबका हृदय से आभारी हूँ। दरअसल, यह हौसला अफ़जाई नि:संदेह किसी भी व्यक्ति को और बेहतर करने की ऊर्जा और शक्ति प्रदान करती है। यहाँ मैं पुन: दोहरा रहा हूँ कि मुझे कंप्यूटर और अंतर्जाल (नेट) की बहुत अधिक समझ और जानकारी नहीं है, परन्तु जितनी भी है, उसमें मैं अपना श्रेष्ठ और लीक से हटकर काम देने की सदैव कोशिश करता रहा हूँ। कंप्यूटर और नेट की दुनिया बहुत विशाल दुनिया है जिसमें ईमानदारी से अच्छा काम करने वालों की भी गिनती कम नहीं है। वे परस्पर एक दूसरे को सिखाने, इस तकनीक की नई से नई चीज़ें बताने और राह में आने वाली अड़चनों, कठिनाइयों को दूर करने की नि:स्वार्थ कोशिश करते रहते हैं। यहाँ मैं भाई आशीष खंडेलवाल जी जो ''हिन्दी टिप्स ब्लॉग'' (http://tips-hindi.blogspot.com) नामक अपने ब्लॉग के जरिये इस क्षेत्र की नई से नई जानकारियों को बहुत सरल ढंग से कंप्यूटर और नेट प्रेमियों को मुहैया कराते ही रहते हैं, का विशेष उल्लेख करना चाहता हूँ जिन्होंने ''कथा पंजाब'' की पोस्टिंग में आने वाली एक बड़ी तकनीकी त्रुटि को मेरे एक ही अनुरोध पर आगे बढ़कर तुरन्त दूर कर दिया। जैसा कि पिछले यानी कथा पंजाब के प्रथम अंक के संपादकीय में भी मैंने उल्लेख किया था, एक बार फिर भाई सुशील कुमार जी का मैं आभारी हूँ जो ''कथा पंजाब'' को लेकर बहुत उत्साहित रहे हैं और मेरी हर छोटी-बड़ी कठिनाई को अपनी कठिनाई समझ कर पूरी तत्परता से दूर करने में जुट जाते हैं।

00
इस बार ''पंजाबी कहानी : आज तक'' के अन्तर्गत पंजाबी की पहली कथा पीढ़ी के प्रख्यात कथाकार (स्व0) गुरमुखसिंह ‘मुसाफिर’ की कहानी ''खसमांखाणे'' जा रही है। ''पंजाबी लघुकथा : आज तक'' के तहत पंजाबी लघुकथा की प्रथम पीढ़ी के बेहद सशक्त और चर्चित लेखक हमदर्दवीर नौशहरवी की पाँच चुनिंदा लघुकथाएँ आपके समक्ष हैं। ''स्त्री कथालेखन : चुनिंदा कहानियाँ'' स्तम्भ के अन्तर्गत पंजाबी की प्रख्यात लेखिका अमृता प्रीतम की एक मशहूर कहानी ''एक ज़ब्तशुदा किताब'' प्रस्तुत है जो नि:संदेह हिन्दी पाठकों के दिलों पर दस्तक देगी, ऐसा मेरा विश्वास है।

00
''कथा पंजाब'' के अन्य स्तम्भों के अन्तर्गत भी समय-समय पर उत्कृष्ठ और श्रेष्ठ सामग्री देने का मैं भरसक प्रयास करता रहूँगा। आशा है, आप अपनी प्रतिक्रिया से मुझे अवगत कराते रहेंगे।

सुभाष नीरव
संपादक : कथा पंजाब

6 टिप्पणियाँ:

सुरेश यादव 12 नवंबर 2009 को 10:31 pm  

भाई,नीरव जी,आप के ब्लाग -कथा पंजाव का स्वागत है.हर भाषा के साथ उसकी सांस्कृतिक पहचान और इस पहचान के साथ धरती की गंध.अपना खास महत्व रखती है.भाषाओँ और संस्कृतियों का मिलन चाहे अनुवाद से हो चाहे व्यापार से हो.संवेदना की विराटता का मार्ग बनाताहै.आप का यह छोटा सा प्रयास एक महत्वपूर्णऔर ऐतिहासिक भूमिका निभाने में सक्षम रहेगा आप को इसके लिए बहुत बहुत बधाई. .09818032913

Nirmla Kapila 13 नवंबर 2009 को 10:17 am  

आपका ये प्रयास सराहणीय है बहुत बहुत शुभकामनायें

बेनामी 13 नवंबर 2009 को 1:43 pm  

YOU ARE DOING A GREAT JOB!I HAVE READ ALL THE STORIES.THANKS FOR SHARING IT WITH ME.
RAJINDER KAUR
rajinderb@hotmail.com

PRAN SHARMA 17 नवंबर 2009 को 9:47 pm  

SUBHASH JEE,
AAPKEE LAGAN ,NISHTHA AUR AAPKA PARISHRAM HAI KI AAPKE
DWAARAA INTERNET PAR PUNJABI SAHITYA HINDI MEIN UPLABD HO RAHAA
HAI.AAPKA YAH AETIHAASIK KADAM
SARAAHNIY HEE NAHIN,ANUKARNIY BHEE
HAI.HAR PUNJABI SAHITYAKAAR AUR
HAR HINDI PAATHAK AAPKAA RINEE HAI.PUNJABI SAHITYAKAAR AAPKA
RINEE ISLIYE HAI KYONKI UNKAA
SAHITYA HINDI MEIN ANUWAD HO RAHAA
HAI AUR HINDI PAATHAK AAPKA RINEE
ISLIYE HAI KYONKI USE PUNJABI
SAHITYA HINDI MEIN PADHNE KO MIL
RAHAA HAI.SAARAA SHREY AAPKO JAATAA HAI.IS UTKRISHT KAAM KE LIYE
MEREE HAARDIK BADHAAEE SWEEKAAR
KIJIYE.

chandrapal 24 नवंबर 2009 को 3:16 pm  

aap ek mahati karya kar rahe hai..'aakhar' parivar ki taraf se aapko dhero shubkamanye.. chandrapal,mumbai

लता 'हया' 2 दिसंबर 2009 को 2:56 am  

bahut bahut shukria.comment se zyada is baat ke liye ki aap panjabi ke itne behatrin rachnakaron se parichay karwa rahe hain, AMRITA ji ki lekhani to hamesha hi dil par dastak deti rahi hai.

‘अनुवाद घर’ को समकालीन पंजाबी साहित्य की उत्कृष्ट कृतियों की तलाश

‘अनुवाद घर’ को समकालीन पंजाबी साहित्य की उत्कृष्ट कृतियों की तलाश है। कथा-कहानी, उपन्यास, आत्मकथा, शब्दचित्र आदि से जुड़ी कृतियों का हिंदी अनुवाद हम ‘अनुवाद घर’ पर धारावाहिक प्रकाशित करना चाहते हैं। इच्छुक लेखक, प्रकाशक ‘टर्म्स एंड कंडीशन्स’ जानने के लिए हमें मेल करें। हमारा मेल आई डी है- anuvadghar@gmail.com

छांग्या-रुक्ख (दलित आत्मकथा)- लेखक : बलबीर माधोपुरी अनुवादक : सुभाष नीरव

छांग्या-रुक्ख (दलित आत्मकथा)- लेखक : बलबीर माधोपुरी अनुवादक : सुभाष नीरव
वाणी प्रकाशन, 21-ए, दरियागंज, नई दिल्ली-110002, मूल्य : 300 रुपये

पंजाबी की चर्चित लघुकथाएं(लघुकथा संग्रह)- संपादन व अनुवाद : सुभाष नीरव

पंजाबी की चर्चित लघुकथाएं(लघुकथा संग्रह)- संपादन व अनुवाद : सुभाष नीरव
शुभम प्रकाशन, एन-10, उलधनपुर, नवीन शाहदरा, दिल्ली-110032, मूल्य : 120 रुपये

रेत (उपन्यास)- हरजीत अटवाल, अनुवादक : सुभाष नीरव

रेत (उपन्यास)- हरजीत अटवाल, अनुवादक : सुभाष नीरव
यूनीस्टार बुक्स प्रायवेट लि0, एस सी ओ, 26-27, सेक्टर 31-ए, चण्डीगढ़-160022, मूल्य : 400 रुपये

पाये से बंधा हुआ काल(कहानी संग्रह)-जतिंदर सिंह हांस, अनुवादक : सुभाष नीरव

पाये से बंधा हुआ काल(कहानी संग्रह)-जतिंदर सिंह हांस, अनुवादक : सुभाष नीरव
नीरज बुक सेंटर, सी-32, आर्या नगर सोसायटी, पटपड़गंज, दिल्ली-110032, मूल्य : 150 रुपये

कथा पंजाब(खंड-2)(कहानी संग्रह) संपादक- हरभजन सिंह, अनुवादक- सुभाष नीरव

कथा पंजाब(खंड-2)(कहानी संग्रह)  संपादक- हरभजन सिंह, अनुवादक- सुभाष नीरव
नेशनल बुक ट्रस्ट, इंडिया, नेहरू भवन, 5, इंस्टीट्यूशनल एरिया, वसंत कुंज, फेज-2, नई दिल्ली-110070, मूल्य :60 रुपये।

कुलवंत सिंह विर्क की चुनिंदा कहानियाँ(संपादन-जसवंत सिंह विरदी), हिंदी अनुवाद : सुभाष नीरव

कुलवंत सिंह विर्क की चुनिंदा कहानियाँ(संपादन-जसवंत सिंह विरदी), हिंदी अनुवाद : सुभाष नीरव
प्रकाशक : नेशनल बुक ट्रस्ट, नई दिल्ली, वर्ष 1998, 2004, मूल्य :35 रुपये

काला दौर (कहानी संग्रह)- संपादन व अनुवाद : सुभाष नीरव

काला दौर (कहानी संग्रह)- संपादन व अनुवाद : सुभाष नीरव
आत्माराम एंड संस, कश्मीरी गेट, दिल्ली-1100-6, मूल्य : 125 रुपये

ज़ख़्म, दर्द और पाप(पंजाबी कथाकर जिंदर की चुनिंदा कहानियाँ), संपादक व अनुवादक : सुभाष नीरव

ज़ख़्म, दर्द और पाप(पंजाबी कथाकर जिंदर की चुनिंदा कहानियाँ), संपादक व अनुवादक : सुभाष नीरव
प्रकाशन वर्ष : 2011, शिव प्रकाशन, जालंधर(पंजाब)

पंजाबी की साहित्यिक कृतियों के हिन्दी प्रकाशन की पहली ब्लॉग पत्रिका - "अनुवाद घर"

"अनुवाद घर" में माह के प्रथम और द्वितीय सप्ताह में मंगलवार को पढ़ें - डॉ एस तरसेम की पुस्तक "धृतराष्ट्र" (एक नेत्रहीन लेखक की आत्मकथा) का धारावाहिक प्रकाशन…

समकालीन पंजाबी साहित्य की अन्य श्रेष्ठ कृतियों का भी धारावाहिक प्रकाशन शीघ्र ही आरंभ होगा…

"अनुवाद घर" पर जाने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें - http://www.anuvadghar.blogspot.com/

व्यवस्थापक
'अनुवाद घर'

समीक्षा हेतु किताबें आमंत्रित

'कथा पंजाब’ के स्तम्भ ‘नई किताबें’ के अन्तर्गत पंजाबी की पुस्तकों के केवल हिन्दी संस्करण की ही समीक्षा प्रकाशित की जाएगी। लेखकों से अनुरोध है कि वे अपनी हिन्दी में अनूदित पुस्तकों की ही दो प्रतियाँ (कविता संग्रहों को छोड़कर) निम्न पते पर डाक से भिजवाएँ :
सुभाष नीरव
372, टाइप- 4, लक्ष्मीबाई नगर
नई दिल्ली-110023

‘नई किताबें’ के अन्तर्गत केवल हिन्दी में अनूदित हाल ही में प्रकाशित हुई पुस्तकों पर समीक्षा के लिए विचार किया जाएगा।
संपादक – कथा पंजाब

सर्वाधिकार सुरक्षित

'कथा पंजाब' में प्रकाशित सामग्री का सर्वाधिकार सुरक्षित है। इसमें प्रकाशित किसी भी रचना का पुनर्प्रकाशन, रेडियो-रूपान्तरण, फिल्मांकन अथवा अनुवाद के लिए 'कथा पंजाब' के सम्पादक और संबंधित लेखक की अनुमति लेना आवश्यक है।

  © Free Blogger Templates Wild Birds by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP