‘कथा पंजाब’ में आपका स्वागत है ! मई 13 अंक में आप पढ़ेंगे- ‘पंजाबी कहानी : आज तक’ के अन्तर्गत पंजाबी के प्रख्यात लेखिका अजीत कौर की एक प्रसिद्ध कहानी 'एक और फालतू औरत', ‘आत्मकथा/स्व-जीवनी’ के अन्तर्गत पंजाबी के वरिष्ठ लेखक प्रेम प्रकाश की आत्मकथा ‘आत्ममाया’ की अगली कड़ी तथा ‘पंजाबी उपन्यास’ के अन्तर्गत बलबीर सिंह मोमी के उपन्यास ‘पीला गुलाब’ की 15वीं किस्त …

Marquee

पंजाबी कहानी : आज तक

>> रविवार, 20 सितंबर 2009









पंजाबी कहानी का जन्म सन् 1932 के आसपास का माना जाता है जबकि पंजाबी उपन्यास ने अपनी उपस्थिति 19वीं सदी के अन्त से ही दर्ज करा दी थी। नानक सिंह(1897-1971) उपन्यासकार पहले माने जाते हैं, कहानीकार बाद में। उन्होंने 38 उपन्यासों, 9 कहानी संग्रह, 4 कविता संग्रह और 4 नाटकों की रचना की। इनके अतिरिक्त एक लेख संग्रह और एक स्व-जीवनी भी प्रकाशित हुई है। इन्होंने अनेक पुस्तकों का पंजाबी में अनुवाद कार्य भी किया। नानक सिंह की पहली कहानी ''रखड़ी'' शीर्षक से सन् 1927 में छपी थी। सन् 1934 में उनका पहला कहानी संग्रह ''हंझुआं दे हार'' छपा था। नानक सिंह का नाम बेशक आधुनिक पंजाबी उपन्यास के अग्रणीय निर्माताओं में गिना जाए, लेकिन जब-जब पंजाबी कहानी की बात चलेगी, कहानी के क्षेत्र में उनके योगदान को नज़रअंदाज करना कठिन होगा। 'कथा पंजाब' के प्रथम अंक में ''पंजाबी कहानी : आज तक'' श्रृंखला के अन्तर्गत हम प्रस्तुत कर रहे हैं -नानक सिंह की चर्चित कहानी -'ताश की आदत' का हिंदी अनुवाद।



ताश की आदत
नानक सिंह
हिंदी अनुवाद : सुभाष नीरव


''रहीमे... !''

शेख अब्दुल हमीद सब-इंस्पेक्टर ने घर में प्रवेश करते ही हांक लगाई- ''बशीरे को मेरे कमरे में भेज ज़रा।'' और तेज कदमों से अपने प्राइवेट कमरे में पहुँच, उसने कोट और पेटी उतारी और मेज के आगे जा बैठा। मेज पर बहुत सारा सामान बिखरा पड़ा था। एक कोने में कानूनी और गैर-कानूनी मोटी-पतली किताबों और काग़ज़ों से ठुंसी हुई फाइलों का ढेर पड़ा था। बीच में कलमदान और उसके निकट ही आज की आई हुई डाक पड़ी थी जिसमें छह लिफाफे, दो-तीन पोस्टकार्ड और एक-दो अखबारें भी थीं। पिनकुशन, ब्लॉटिंग पेपर, पेपरवेट, टैग के साथ-साथ और बहुत-सा छोटा-मोटा सामान इधर-उधर पड़ा था।

बैठते ही शेख ने दूर की ऐंनक उतार कर मेज के सामने, जहाँ कुछ जगह खाली थी, टिका दी और नज़दीक की ऐंनक लगाकर डाक देखने लगा।

उन्होंने अभी दो लिफाफे ही खोले थे कि करीब पांचेक साल का एक लड़का अन्दर आता दिखाई दिया।

लड़का दीखने में बड़ा चुस्त, चालाक और शरारती-सा था, पर पिता के कमरे में घुसते ही उसका स्वभाव एकाएक बदल गया। चंचल और फुर्तीली आँखें झुक गईं। शरीर में जैसे जान ही न रही हो।

''बैठ जा, सामने कुर्सी पर...'' एक लम्बी चिट्ठी पढ़ते हुए शेर की तरह गरज कर शेख ने हुक्म दिया।

लड़का डरते-डरते सामने बैठ गया।

''मेरी ओर देख...'' चिट्ठी पर से अपना ध्यान हटा कर शेख कड़का, ''सुना है, तूने आज ताश खेली थी ?''

''नहीं अब्बा जी।'' लड़के ने सहमते हुए कहा।

''डर मत।'' शेख ने अपनी आदत के उलट कहा, ''सच सच बता दे, मैं तुझे कुछ नहीं कहूँगा। मैंने खुद तुझे देखा था, अब्दुला के लड़के के साथ। उनके आँगन में तू खेल रहा था। बता, खेल रहा था कि नहीं ?''

लड़का मुँह से कुछ न बोला। लेकिन 'हाँ' में उसने सिर हिला दिया।

''शाबाश !'' शेख नरमी से बोला, ''मैं तुझसे बड़ा खुश हूँ कि आखिर तूने सच सच बता दिया। असल में बशीर, मैंने खुद नहीं देखा था, सुना था। यह तो तुझसे इकबाल करवाने का तरीका था। बहुत सारे मुलज़िमों को हम इसी तरह बकवा लेते हैं। खैर, मैं तुझे आज कुछ ज़रूरी बातें समझाना चाहता हूँ। ज़रा ध्यान से सुन।''

'ध्यान से सुन' कहने के बाद उसने बशीर की ओर देखा। वह पिता की ऐंनक उठा कर उसकी कमानियाँ ऊपर-नीचे कर रहा था।

ऐंनक लड़के के हाथ से लेकर और साथ ही फाइल में से वारंट का मजबून मन ही मन पढ़ते हुए शेख ने कहा, ''तुझे मालूम होना चाहिए कि एक गुनाह बहुत सारे गुनाहों का जन्म देता है। इसकी जिन्दा मिसाल यह है कि ताश खेलने के गुनाह को छिपाने के लिए तुझे झूठ भी बोलना पड़ा। यानी एक की जगह तूने दो गुनाह किए।''

वारंट को पुन: फाइल में नत्थी करते हुए शेख ने लड़के की ओर देखा। बशीर पिनकुशन में से पिनें निकाल कर टेबल-क्लॉथ में चुभा रहा था।

''मेरी ओर ध्यान दे।'' उसके हाथों में से पिनों का छीन कर शेख एक अख़बार खोलकर देखते हुए बोला, ''ताश भी एक क़िस्म का जुआ होता है, जुआ ! यहीं से बढ़ते-बढ़ते जुए की आदत पड़ जाती है आदमी को, सुना तूने ? और यह आदत न केवल अपने तक ही महदूद रहती है बल्कि एक आदमी से दूसरे को, दूसरे से तीसरे को पड़ जाती है। ऐसे जैसे खरबूजा खरबूजे को देखकर रंग पकड़ता है।''

कलमदान में से उंगली पर स्याही लगाकर बशीर एक कोरे काग़ज़ पर आड़ी-तिरछी रेखाएं खींच रहा था। खरबूजे का नाम सुनते ही उसने उंगली को मेज की निचली बाही से पोंछ कर पिता की ओर इस तरह देखा मानो वह सचमुच में कोई खरबूजा हाथ में लिए बैठा हो।

''बशीर !'' उसके आगे से कलमदान उठाकर एक ओर रखते हुए शेख चीखकर बोला, ''मेरी बात ध्यान से सुन !''

अभी वह इतना ही कह पाया था कि तभी टेलीफोन की घंटी बज उठी। शेख ने उठकर रिसीवर उठाया, ''हैलो ! कहाँ से बोल रहे हो ? बाबू पुरुषोत्तम दास ?... आदाब अर्ज ! सुनाओ, क्या हुक्म है ?... लॉटरी की टिकटें ?... वह मैं आज शाम पूरी करके भेज दूंगा... कितने रुपये हैं पाँच टिकटों के ?... पचास ?... खैर, पर कभी निकाली भी हैं आज तक... किस्मत न जाने कब जागेगी... और तुम किस मर्ज़ की दवा हो... अच्छा आदाब !''

रिसीवर रखकर वह पुन: अपनी कुर्सी पर आ बैठा और बोला, ''देख ! शरारतें न कर। पेपर वेट नीचे गिर कर टूट जाएगा। इसे रख दे और ध्यान से मेरी बात सुन !''

''हाँ, मैं क्या कह रहा था ?'' एक फाइल का फीता खोलते हुए शेख ने कहा, ''ताश की बुराइयाँ बता रहा था। ताश से जुआ, जुए से चोरी, और चोरी के बाद पता नहीं क्या-क्या ?'' बशीर की ओर देखते हुए कहा, ''फिर जेल यानी क़ैद की सजा।''

फाइल में से बाहर निकले हुए एक पीले काग़ज़ में बशीर पंच की सहायता से छेद कर रहा था।

''नालायक पाजी !'' शेख उसके हाथों से पंच खींचते हुए बोला, ''छोड़ इन बेकार के कामों को और मेरी बात ध्यान से सुन ! तुझे पता है, कितने चोरों का हमें हर रोज़ चालान करना पड़ता है ?... और ये सारे ताश खेल-खेल कर ही चोरी करना सीखते हैं। अगर यह कानून का डंडा इनके सिर पर न हो तो न जाने क्या क़यामत ला दें।'' इसके साथ ही शेख ने मेज के एक कोने में पड़ी किताब 'ताज़ीरात हिन्द' की ओर इशारा किया। लेकिन बशीर का ध्यान एक दूसरी ही किताब की ओर था। उसके ऊपर गत्ते पर से जिल्द का कपड़ा थोड़ा-सा उतरा हुआ था जिसे खींचते-खींचते बशीर ने आधा गत्ता नंगा कर दिया था।

''बेवकूफ़, गधा !'' किताब उसके पास से उठा कर दूर रखते हुए शेख बोला, ''तुम्हें जिल्दें उधेड़ने के लिए बुलाया था ? ध्यान से सुन !'' और कुछ सम्मनों पर दस्तख़त करते हुए उसने फिर लड़ी को जोड़ा, ''हम पुलिस अफ़सरों को सरकार जो इतनी तनख्वाहें और पेंशनें देती है, तुझे पता है, क्यूँ देती है ? सिर्फ़ इसलिए कि हम मुल्क़ में से जुर्म का खातमा करें। पर अगर हमारे ही बच्चे ताश-जुआ खेलने लग जाएँ तो दुनिया क्या कहेगी ? और हम अपना नमक किस तरह हलाल...''

बात अभी पूरी भी न हुई थी कि पिछले दरवाजे से उनका एक ऊँचा-लम्बा नौकर भीतर आया। यह सिपाही था। शेख हमेशा ऐसे ही दो-तीन वफ़ादार सिपाही घर में रखा करता था। इनमें से एक पशुओं को चारा-पानी देने और भैंसों को दुहने के लिए, दूसरा- रसोई के काम मे मदद करने के लिए और तीसरा जो अन्दर था- यह असामियों से रकमें खरी करने के लिए रखा हुआ था। उसने झुककर सलाम करते हुए कहा, ''वो आए बैठे हैं जी।''

''कौन ?''

''वही बुघी बदमाश के आदमी... जिन्होंने दशहरे के मेले में जुआखाना लगाने के लिए अर्जी दी थी।''

''फिर तू खुद ही बात कर लेता।''

''मैंने तो उन्हें कह दिया था कि शेख जी ढाई सौ से कम में नहीं मानते, पर...।''

''फिर वो क्या कहते हैं ?''

''वो कहते हैं, हम एक बार खुद शेख जी की क़दमबोसी करना चाहते हैं। अगर तकलीफ़ न हो तो कुछ देर के लिए चले चलें। बहुत देर से इंतज़ार कर रहे हैं।''

''अच्छा चलो।'' कह कर शेख जब उठने लगा तो उसने बशीर की ओर देखा। वह ऊँघ रहा था। यदि वह तुरन्त उसे डांट कर जगा न देता तो उसका माथा मेज से जा टकराता।

''जा, आराम कर जा कर।'' शेख कोट और बेल्ट संभालते हुए बोला, ''बाकी नसीहतें तुझे शाम को दूंगा। दुबारा ताश न खेलना।''

और वह बाहर निकल गया। लड़के ने खड़े होकर एक-दो लम्बी उबासियाँ लेते हए शरीर को ऐंठा, आँखों को मला और फिर उछलता-कूदता कमरे से बाहर निकल गया।

00

4 टिप्पणियाँ:

राजीव तनेजा 21 सितंबर 2009 को 8:40 pm  

हम दूसरों को तो नसीहत देते हैँ लेकिन खुद उन्हीं पे अमल नहीं कर पाते....

सुन्दर कहानी

HARI SHARMA 23 सितंबर 2009 को 8:19 pm  

सच है जुआ खेल्ना बुरी बात है
बहुत बुरी बात है
बहुत ही बुरी बात है
*
*
*
*
*
चल यार पता फ़े़क बातो़ मे़ क्या रक्खा है ?

रूपसिंह चन्देल 24 सितंबर 2009 को 6:52 pm  

Adbhut kahani. Bashir ke balman ko pakadate huye ek Police vale ki vastavikata aur usake dohare charitra ko udghatit karati kahani. Nanak Singh ji ne bahut sundar nirvah kiya . Itani seedi-sadi kahani --- Hindi se aisi kahaniyan kyon gayab hoti ja rahi hain ? Fir pathak ka rona.

Chandel

ashok andrey 25 सितंबर 2009 को 6:35 pm  

ek achchhi kahani ke liye jo kheen gehre jaa kar apna prabhaav chhodti hei uske liye mei badhai detaa hoon

ashok andrey

‘अनुवाद घर’ को समकालीन पंजाबी साहित्य की उत्कृष्ट कृतियों की तलाश

‘अनुवाद घर’ को समकालीन पंजाबी साहित्य की उत्कृष्ट कृतियों की तलाश है। कथा-कहानी, उपन्यास, आत्मकथा, शब्दचित्र आदि से जुड़ी कृतियों का हिंदी अनुवाद हम ‘अनुवाद घर’ पर धारावाहिक प्रकाशित करना चाहते हैं। इच्छुक लेखक, प्रकाशक ‘टर्म्स एंड कंडीशन्स’ जानने के लिए हमें मेल करें। हमारा मेल आई डी है- anuvadghar@gmail.com

छांग्या-रुक्ख (दलित आत्मकथा)- लेखक : बलबीर माधोपुरी अनुवादक : सुभाष नीरव

छांग्या-रुक्ख (दलित आत्मकथा)- लेखक : बलबीर माधोपुरी अनुवादक : सुभाष नीरव
वाणी प्रकाशन, 21-ए, दरियागंज, नई दिल्ली-110002, मूल्य : 300 रुपये

पंजाबी की चर्चित लघुकथाएं(लघुकथा संग्रह)- संपादन व अनुवाद : सुभाष नीरव

पंजाबी की चर्चित लघुकथाएं(लघुकथा संग्रह)- संपादन व अनुवाद : सुभाष नीरव
शुभम प्रकाशन, एन-10, उलधनपुर, नवीन शाहदरा, दिल्ली-110032, मूल्य : 120 रुपये

रेत (उपन्यास)- हरजीत अटवाल, अनुवादक : सुभाष नीरव

रेत (उपन्यास)- हरजीत अटवाल, अनुवादक : सुभाष नीरव
यूनीस्टार बुक्स प्रायवेट लि0, एस सी ओ, 26-27, सेक्टर 31-ए, चण्डीगढ़-160022, मूल्य : 400 रुपये

पाये से बंधा हुआ काल(कहानी संग्रह)-जतिंदर सिंह हांस, अनुवादक : सुभाष नीरव

पाये से बंधा हुआ काल(कहानी संग्रह)-जतिंदर सिंह हांस, अनुवादक : सुभाष नीरव
नीरज बुक सेंटर, सी-32, आर्या नगर सोसायटी, पटपड़गंज, दिल्ली-110032, मूल्य : 150 रुपये

कथा पंजाब(खंड-2)(कहानी संग्रह) संपादक- हरभजन सिंह, अनुवादक- सुभाष नीरव

कथा पंजाब(खंड-2)(कहानी संग्रह)  संपादक- हरभजन सिंह, अनुवादक- सुभाष नीरव
नेशनल बुक ट्रस्ट, इंडिया, नेहरू भवन, 5, इंस्टीट्यूशनल एरिया, वसंत कुंज, फेज-2, नई दिल्ली-110070, मूल्य :60 रुपये।

कुलवंत सिंह विर्क की चुनिंदा कहानियाँ(संपादन-जसवंत सिंह विरदी), हिंदी अनुवाद : सुभाष नीरव

कुलवंत सिंह विर्क की चुनिंदा कहानियाँ(संपादन-जसवंत सिंह विरदी), हिंदी अनुवाद : सुभाष नीरव
प्रकाशक : नेशनल बुक ट्रस्ट, नई दिल्ली, वर्ष 1998, 2004, मूल्य :35 रुपये

काला दौर (कहानी संग्रह)- संपादन व अनुवाद : सुभाष नीरव

काला दौर (कहानी संग्रह)- संपादन व अनुवाद : सुभाष नीरव
आत्माराम एंड संस, कश्मीरी गेट, दिल्ली-1100-6, मूल्य : 125 रुपये

ज़ख़्म, दर्द और पाप(पंजाबी कथाकर जिंदर की चुनिंदा कहानियाँ), संपादक व अनुवादक : सुभाष नीरव

ज़ख़्म, दर्द और पाप(पंजाबी कथाकर जिंदर की चुनिंदा कहानियाँ), संपादक व अनुवादक : सुभाष नीरव
प्रकाशन वर्ष : 2011, शिव प्रकाशन, जालंधर(पंजाब)

पंजाबी की साहित्यिक कृतियों के हिन्दी प्रकाशन की पहली ब्लॉग पत्रिका - "अनुवाद घर"

"अनुवाद घर" में माह के प्रथम और द्वितीय सप्ताह में मंगलवार को पढ़ें - डॉ एस तरसेम की पुस्तक "धृतराष्ट्र" (एक नेत्रहीन लेखक की आत्मकथा) का धारावाहिक प्रकाशन…

समकालीन पंजाबी साहित्य की अन्य श्रेष्ठ कृतियों का भी धारावाहिक प्रकाशन शीघ्र ही आरंभ होगा…

"अनुवाद घर" पर जाने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें - http://www.anuvadghar.blogspot.com/

व्यवस्थापक
'अनुवाद घर'

समीक्षा हेतु किताबें आमंत्रित

'कथा पंजाब’ के स्तम्भ ‘नई किताबें’ के अन्तर्गत पंजाबी की पुस्तकों के केवल हिन्दी संस्करण की ही समीक्षा प्रकाशित की जाएगी। लेखकों से अनुरोध है कि वे अपनी हिन्दी में अनूदित पुस्तकों की ही दो प्रतियाँ (कविता संग्रहों को छोड़कर) निम्न पते पर डाक से भिजवाएँ :
सुभाष नीरव
372, टाइप- 4, लक्ष्मीबाई नगर
नई दिल्ली-110023

‘नई किताबें’ के अन्तर्गत केवल हिन्दी में अनूदित हाल ही में प्रकाशित हुई पुस्तकों पर समीक्षा के लिए विचार किया जाएगा।
संपादक – कथा पंजाब

सर्वाधिकार सुरक्षित

'कथा पंजाब' में प्रकाशित सामग्री का सर्वाधिकार सुरक्षित है। इसमें प्रकाशित किसी भी रचना का पुनर्प्रकाशन, रेडियो-रूपान्तरण, फिल्मांकन अथवा अनुवाद के लिए 'कथा पंजाब' के सम्पादक और संबंधित लेखक की अनुमति लेना आवश्यक है।
‘कथा पंजाब’ के आगामी अंक में आप पढ़ेंगे –‘पंजाबी कहानी : आज तक’ में पंजाबी के प्रख्यात लेखक गुलजार सिंह संधु की कहानी, ‘आत्मकथा/स्व-जीवनी’ के अन्तर्गत पंजाबी के वरिष्ठ लेखक प्रेम प्रकाश की आत्मकथा ‘आत्ममाया’ की अगली कड़ी और बलबीर मोमी के उपन्यास ‘पीला गुलाब’ की अगली किस्त…

Marquee

  © Free Blogger Templates Wild Birds by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP