‘कथा पंजाब’ में आपका स्वागत है ! मई 13 अंक में आप पढ़ेंगे- ‘पंजाबी कहानी : आज तक’ के अन्तर्गत पंजाबी के प्रख्यात लेखिका अजीत कौर की एक प्रसिद्ध कहानी 'एक और फालतू औरत', ‘आत्मकथा/स्व-जीवनी’ के अन्तर्गत पंजाबी के वरिष्ठ लेखक प्रेम प्रकाश की आत्मकथा ‘आत्ममाया’ की अगली कड़ी तथा ‘पंजाबी उपन्यास’ के अन्तर्गत बलबीर सिंह मोमी के उपन्यास ‘पीला गुलाब’ की 15वीं किस्त …

Marquee

संपादकीय

>> गुरुवार, 11 मार्च 2010



लेखक कभी नहीं मरा करता...

यह अंक श्रद्धाजंलि स्वरूप (स्व.) राम सरूप अणखी और (स्व.) शरन मक्कड़ जी को समर्पित है। दोनों ही पंजाबी कथा साहित्य के बहुचर्चित और स्थापित लेखक रहे हैं। अणखी जी को उनकी कहानियों और उपन्यास के क्षेत्र में किए गए कार्य के लिए हमेशा याद किया जाता रहेगा। वह ऐसे लेखक थे जो निरन्तर लिखने में विश्वास करते थे। हर समय उनकी कलम चलती रहती थी। अनगिनत कहानियों के साथ-साथ उन्होंने पंजाबी साहित्य को अनेक उपन्यास दिए जिनमें ''परदा और रौशनी'', ''कोठे खड़क सिंह'', ''प्रतापी'' ''सुलघती रात'' ''जख्मी औरत'' ''जिन सिर सोहन पट्टियाँ'' प्रमुख हैं। ''कोठे खड़क सिंह'' उपन्यास पर साहित्य अकादमी, दिल्ली का पुरस्कार वर्ष 1987 में प्रदान हुआ था। यह उपन्यास हिंदी में ''एक गाँव की कहानी'' शीर्षक से प्रकाशित हुआ। 28 अगस्त 1932 में धौला,जिला-संगरूर(पंजाब) में जन्मे राम सरूप अणखी जी का निधन गत 14 फरवरी 2010 को उनके निवास बरनाला में हुआ। (स्व.)शरन मक्कड़ (मार्च, 1939- 10 नवम्बर, 2009) पंजाबी की बहुचर्चित लेखिका रही हैं। इन्होंने अनेक कहानियों और लघुकथाओं की रचना की। पंजाबी लघुकथा में इनके महत्वपूर्ण योगदान को भुला सकना असंभव है। शरन मक्कड़ जी ने अपनी मौलिक रचनात्मकता और सम्पादन कार्य के जरिये पंजाबी लघुकथा के विकास में बहुत बड़ा और उल्लेखनीय काम किया। उन्होंने अनवंत कौर के साथ मिलकर पंजाबी लघुकथा की एक बहुत ही महत्वपूर्ण पुस्तक ''अब जूझन के दाव'' सन् 1975 में सम्पादित की थी। यह वह दौर था जब पंजाबी लघुकथा में हमें उंगलियों पर गिने जाने वाले मौलिक और सम्पादित संग्रह दिखाई देते थे। लघुकथाओं के अलावा शरन जी ने पंजाबी में अनेक कहानियाँ लिखीं। 'न दिन, न रात', 'दूसरा हादसा', 'टहनी से टूटा हुआ मनुष्य', 'धुआं और धूल', 'कच्ची ईंटों का पुल' उनके प्रमुख कहानी संग्रह हैं। 'खुंडी धार' शीर्षक से उनका चर्चित लघुकथा- संग्रह है। इसके अतिरिक्त चार कविता संग्रह उन्होंने पंजाबी साहित्य की झोली में डाले।
भले ही उक्त लेखक अब हमारे बीच नहीं रहे हैं, पर लेखक कभी मरा नहीं करता। वह अपनी रचनाओं के जरिये हमारे बीच जिंदा रहता है और ये भी जिंदा रहेंगे हम सब के बीच, अपने लिखे हुए साहित्य के कारण्… ''कथा पंजाब'' इन दोनों लेखकों को भावभीनी श्रद्धाजंलि देता है।
0
इस अंक में आप पढेंगे -
“रेखाचित्र/संस्मरण” स्तम्भ के अन्तर्गत राम सरूप अणखी पर पंजाबी कथाकार गुरमेल मडाहड़ द्वारा लिखा रेखाचित्र और ''पंजाबी लघुकथा : आज तक'' के अन्तर्गत शरन मक्कड़ जी की पाँच चुनिंदा लघुकथाओं का हिंदी अनुवाद...
सुभाष नीरव
संपादक - कथा पंजाब

3 टिप्पणियाँ:

रूपसिंह चन्देल 12 मार्च 2010 को 7:59 pm  

पंजाबी साहित्य के लिए तुम जो कार्य कर रहे हो वह न केवल उल्लेखनीय है बल्कि अभूतपूर्व भी है. अभूतपूर्व इसलिए क्योंकि तुमने पीढियॊं हिन्दी पाठकों के सामने प्रस्तुत करने का स्तुत्य कार्य किया. अब तक अनुवादक पंजाबी के स्थापित कथाकारों की रचनाओं को ही हाथ लगाते थे जबकि तुमने पंजाबी के पुराने से लेकर आज के युवा रचनाकारों के अनुवाद करके हिन्दी को ही समृद्ध नहीं किया बल्कि पंजाबी लेखकों को प्रोत्साहित भी किया.

रूपसिंह चन्देल

हरकीरत ' हीर' 21 मार्च 2010 को 11:03 pm  

रूप सिंह जी ने सही कहा ..... आपने अनुवाद के क्षेत्र में अभूतपूर्व काम किया है ....और इसके लिए आप प्रशंसा और सम्मान के हकदार हैं ......!!

बेनामी 23 अप्रैल 2010 को 8:46 pm  

प्रिय सुभाष जी ,
पंजाबी कथा साहित्य की बेहतरीन चीज़ों को हिन्दीभाषी पाठकों को उपलब्ध करवाने के लिए आपकी जितनी सराहना की जाए कम है .

सुधा अरोड़ा
sudhaarora@gmail.com
वसुंधरा
602 , गेटवे प्लाज़ा ,
हीरानंदानी गार्डेन्स
पवई . मुंबई - 400 076

‘अनुवाद घर’ को समकालीन पंजाबी साहित्य की उत्कृष्ट कृतियों की तलाश

‘अनुवाद घर’ को समकालीन पंजाबी साहित्य की उत्कृष्ट कृतियों की तलाश है। कथा-कहानी, उपन्यास, आत्मकथा, शब्दचित्र आदि से जुड़ी कृतियों का हिंदी अनुवाद हम ‘अनुवाद घर’ पर धारावाहिक प्रकाशित करना चाहते हैं। इच्छुक लेखक, प्रकाशक ‘टर्म्स एंड कंडीशन्स’ जानने के लिए हमें मेल करें। हमारा मेल आई डी है- anuvadghar@gmail.com

छांग्या-रुक्ख (दलित आत्मकथा)- लेखक : बलबीर माधोपुरी अनुवादक : सुभाष नीरव

छांग्या-रुक्ख (दलित आत्मकथा)- लेखक : बलबीर माधोपुरी अनुवादक : सुभाष नीरव
वाणी प्रकाशन, 21-ए, दरियागंज, नई दिल्ली-110002, मूल्य : 300 रुपये

पंजाबी की चर्चित लघुकथाएं(लघुकथा संग्रह)- संपादन व अनुवाद : सुभाष नीरव

पंजाबी की चर्चित लघुकथाएं(लघुकथा संग्रह)- संपादन व अनुवाद : सुभाष नीरव
शुभम प्रकाशन, एन-10, उलधनपुर, नवीन शाहदरा, दिल्ली-110032, मूल्य : 120 रुपये

रेत (उपन्यास)- हरजीत अटवाल, अनुवादक : सुभाष नीरव

रेत (उपन्यास)- हरजीत अटवाल, अनुवादक : सुभाष नीरव
यूनीस्टार बुक्स प्रायवेट लि0, एस सी ओ, 26-27, सेक्टर 31-ए, चण्डीगढ़-160022, मूल्य : 400 रुपये

पाये से बंधा हुआ काल(कहानी संग्रह)-जतिंदर सिंह हांस, अनुवादक : सुभाष नीरव

पाये से बंधा हुआ काल(कहानी संग्रह)-जतिंदर सिंह हांस, अनुवादक : सुभाष नीरव
नीरज बुक सेंटर, सी-32, आर्या नगर सोसायटी, पटपड़गंज, दिल्ली-110032, मूल्य : 150 रुपये

कथा पंजाब(खंड-2)(कहानी संग्रह) संपादक- हरभजन सिंह, अनुवादक- सुभाष नीरव

कथा पंजाब(खंड-2)(कहानी संग्रह)  संपादक- हरभजन सिंह, अनुवादक- सुभाष नीरव
नेशनल बुक ट्रस्ट, इंडिया, नेहरू भवन, 5, इंस्टीट्यूशनल एरिया, वसंत कुंज, फेज-2, नई दिल्ली-110070, मूल्य :60 रुपये।

कुलवंत सिंह विर्क की चुनिंदा कहानियाँ(संपादन-जसवंत सिंह विरदी), हिंदी अनुवाद : सुभाष नीरव

कुलवंत सिंह विर्क की चुनिंदा कहानियाँ(संपादन-जसवंत सिंह विरदी), हिंदी अनुवाद : सुभाष नीरव
प्रकाशक : नेशनल बुक ट्रस्ट, नई दिल्ली, वर्ष 1998, 2004, मूल्य :35 रुपये

काला दौर (कहानी संग्रह)- संपादन व अनुवाद : सुभाष नीरव

काला दौर (कहानी संग्रह)- संपादन व अनुवाद : सुभाष नीरव
आत्माराम एंड संस, कश्मीरी गेट, दिल्ली-1100-6, मूल्य : 125 रुपये

ज़ख़्म, दर्द और पाप(पंजाबी कथाकर जिंदर की चुनिंदा कहानियाँ), संपादक व अनुवादक : सुभाष नीरव

ज़ख़्म, दर्द और पाप(पंजाबी कथाकर जिंदर की चुनिंदा कहानियाँ), संपादक व अनुवादक : सुभाष नीरव
प्रकाशन वर्ष : 2011, शिव प्रकाशन, जालंधर(पंजाब)

पंजाबी की साहित्यिक कृतियों के हिन्दी प्रकाशन की पहली ब्लॉग पत्रिका - "अनुवाद घर"

"अनुवाद घर" में माह के प्रथम और द्वितीय सप्ताह में मंगलवार को पढ़ें - डॉ एस तरसेम की पुस्तक "धृतराष्ट्र" (एक नेत्रहीन लेखक की आत्मकथा) का धारावाहिक प्रकाशन…

समकालीन पंजाबी साहित्य की अन्य श्रेष्ठ कृतियों का भी धारावाहिक प्रकाशन शीघ्र ही आरंभ होगा…

"अनुवाद घर" पर जाने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें - http://www.anuvadghar.blogspot.com/

व्यवस्थापक
'अनुवाद घर'

समीक्षा हेतु किताबें आमंत्रित

'कथा पंजाब’ के स्तम्भ ‘नई किताबें’ के अन्तर्गत पंजाबी की पुस्तकों के केवल हिन्दी संस्करण की ही समीक्षा प्रकाशित की जाएगी। लेखकों से अनुरोध है कि वे अपनी हिन्दी में अनूदित पुस्तकों की ही दो प्रतियाँ (कविता संग्रहों को छोड़कर) निम्न पते पर डाक से भिजवाएँ :
सुभाष नीरव
372, टाइप- 4, लक्ष्मीबाई नगर
नई दिल्ली-110023

‘नई किताबें’ के अन्तर्गत केवल हिन्दी में अनूदित हाल ही में प्रकाशित हुई पुस्तकों पर समीक्षा के लिए विचार किया जाएगा।
संपादक – कथा पंजाब

सर्वाधिकार सुरक्षित

'कथा पंजाब' में प्रकाशित सामग्री का सर्वाधिकार सुरक्षित है। इसमें प्रकाशित किसी भी रचना का पुनर्प्रकाशन, रेडियो-रूपान्तरण, फिल्मांकन अथवा अनुवाद के लिए 'कथा पंजाब' के सम्पादक और संबंधित लेखक की अनुमति लेना आवश्यक है।
‘कथा पंजाब’ के आगामी अंक में आप पढ़ेंगे –‘पंजाबी कहानी : आज तक’ में पंजाबी के प्रख्यात लेखक गुलजार सिंह संधु की कहानी, ‘आत्मकथा/स्व-जीवनी’ के अन्तर्गत पंजाबी के वरिष्ठ लेखक प्रेम प्रकाश की आत्मकथा ‘आत्ममाया’ की अगली कड़ी और बलबीर मोमी के उपन्यास ‘पीला गुलाब’ की अगली किस्त…

Marquee

  © Free Blogger Templates Wild Birds by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP